ब्लागिंग लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ब्लागिंग लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, अगस्त 12

65 हज़ार से अधिक पाठक जुड़े वृक्षों के साथ राखी त्यौहार की रिपोर्ट से

मित्रो मेरे ब्लॉग मिसफिट पर प्रकाशित "प्रभावी रहा पेडों को राखी बांधने में छिपा संदेश" शीर्षक से प्रकाशित रिपोर्ट जो बालभवन में आयोजित पेड़ों को  राखी बांधने के कार्यक्रम पर केन्द्रित थी को 65 हज़ार से अधिक पाठकों ने क्लिक किया. जिसका यू आर एल निम्नानुसार है   http://sanskaardhani.blogspot.in/2017/08/blog-post_5.html
                         इसके अलावा "भारत के राष्ट्रवाद को हिन्दू राष्ट्रवाद कहना चीन की सबसे बड़ी अन्यायपूर्ण अभिव्यक्ति" ( http://sanskaardhani.blogspot.in/2017/07/blog-post_26.html ) को 7791  पाठक मिले . 

       हिन्दी ब्लागिंग की शुरुआत मैनें 2007 से की थी .  चिट्ठाकारी एक स्वांत: सुखाय रचना कर्म  है फिर भी हमें सबसे रिलिवेंट एवं सामयिक विषयों  पर लिखना होता है . मुझे इतनी सफलता घर बैठकर उत्तराखंड के खटीमा में हो रही ब्लागर्स मीट की लाइव  वेबकास्टिंग के लिए मिली थी . 
        परन्तु हिन्दी में  टेक्स्ट ब्लागिंग को 5 अगस्त 17 को लिखने के 4 दिन बाद इतने पाठक मिलना मेरे लिए रोमांचक खबर है. 
         लेखकों को समझना होगा कि इंटरनेट पर  टैक्स्ट कन्टेंट की ज़रूरत है ताकि भाषानुवाद एवं भाषा के विकास को पर्याप्त वैश्विक स्तर पर अवसर सुलभ हैं. साथ ही इस बात  से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि हिन्दी भाषा अब केवल पुस्तकों तक सीमित नहीं रह गई है उसे तकनीकी के इस वैश्विक स्वरुप की आवश्यकता भी है.   

गुरुवार, अप्रैल 28

दिल्ली पहुंच कर अन्ना ने चूलें सरकार की हिला दीं थीं ब्लागर ब्लागरा भी ..


                                                           हां तो भाईयो और ब्लागर भग्नियो जो ( मानें ) दिल्ली पहुंच कर अन्ना ने चूलें सरकार की हिला दीं थीं ब्लागर ब्लागरा क्या करेंगे.. जी सम्मेलन की घोषणा होते ही कितने सीनों पे नागिन फ़िलम छाप धुन पै  सांप लोट रए हैं सबरे ब्लागरन को पता है.पर जे जान लो भैया रवींद्र परताप जी  और अगरवाल साब  ने पूरे देस और बिदेस से ज़हर निकालने वाले सपेरे बुलाय लिये. जिनका काम है  ज़हर से  "ज़हर-रोधी" बनाना . सांप भैये  आप तो जिसकी आस्तीन में रहते हो रहो सीनों पे न लोटो वरना ज़हर से हाथ धो लोगे.   खास खबर ये है कि अविनाश  जी और पता नहीं कौन कौन  दिल्ली चलो का हल्ला महीनों से नुक्कड़ पे आके मचाए पड़े थे उधर भाई रवीन्द्र प्रभात की किताबें लिखने की   मौन  साधना अलग जारी थी. बस्स इस आह्वान का असर दिखा अंदर की बात तो जे है भैया कि अन्ना हज़ारे तक दिल्ली आ गये और बस हिला दीं चूलें सरकार की ऐसा माना जा रहा है... और खास खबर ये है कि लारा मेमसाब पर इस आह्वान का असर कुछ ज़ियादा ही हुआ उनने कसम खाई कि 29 अप्रैल 2011 से पूरे देश में ब्लागर्स के वास्ते  आह्वान करेंगीं   नारा देंगी  "दिल्ली चलो "समीर बाबू कनाड़ा से सोच रए हैं के   दिल्ली में बस जाने को जी चाहता है. हजूर बस एक बार चुनाव लड़ लिये होते तब्ब तो पक्का था कि आप दिल्ली में इच्च होते..सुना है कुछ लोग जो सम्मेलन को फ़ेस न कर पाए वे  फ़ेस बुक में...पद्मावलि (पद्मावति नहीं) बारे  पद्म भैया सुनिये हमारे राशी फ़ल में जात्रा के लिये मनाही है पर हम आयेंगे ज़रूर आएंगे पक्के में आएंगे  . संगीता  ताई से तोड़ निकलवाएंगे पक्के में. जी और तो और हम वेबकास्टिंग करेंगे ललित भाई  के अलावा सवा लाख पे भारी श्री बी एस पाबला  श्री संजीव तिवारी  से  मिलना भी होगा और देखिये हम लोग ऐसे दिखेंगे
वेबकास्टिंग के लिये किस ब्लाग पे चटका लगाना है..?

जी डा०विजय तिवारी किसलय के बताए अनुसार मुझे बताया "वेबकास्टिंग जिसकी चर्चा देश विदेश की पत्र पत्रिकाओं में भी की गई है.  इतना ही नहीं उक्त कार्यक्रम का लाइव प्रसारण http://www.nukkadh.comhttp://sanskaardhani.blogspot.comतथा http://editers.blogspot.com/ , http://hindisahityasangam.blogspot.com/ पर  दिनांक 30 अप्रैल 2011 .को शाम तीन बजे से उपलब्ध होगा. 
 "

इस पर एक रपट देखिये भाई पियूस पाण्डे साब की कतरन भास्कर की
दैनिक भास्कर के राष्ट्रीय संस्करण में आज दिनांक २९.०४.२०११ को प्रकाशित पीयूष पांडे का विस्तृत विवेचन हिंदी ब्लॉग सम्मलेन के बहाने 
नुक्कड़ से साभार 








शुक्रवार, मार्च 11

हिंदी ब्लागिंग पर प्रतिबंध और ब्लागर्स की ज़िम्मेदारी...!

                                        
समीरलाल
 हिंदी ब्लाग जगत चिंतित है. समीरलाल चिंतित होकर बज़्ज़ पर पूछ रहे हैं:-"बेचारा निरीह हिन्दी ब्लॉगर- कानून के घेरे में लपेटा    जायेगा....अधिकतर तो आत्म समर्पण करके निकलना पसंद करेंगे." तो नुक्कड़ पर चिंतित हैं अपने ललित शर्मा जी कह रहे है मौलिक-अधिकार का हनन है यह..  संजीव शर्मा जी ने जुगाली पर  बताया कि:- क्या और कैसे होगा प्रतिबंध ब्लागिंग पर . कुल मिला कर सारे हिन्दी ब्लाग जगत में एक सनसनी अभिव्यक्ति पर  लगाम कसने की कयावद वह भी हिंदी ब्लागर्स की अभिव्यक्ति पर हिंदी-ब्लागर्स बकौल संजीव :-"हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओँ के ब्लॉग तो अभी मुक्त हवा में साँस लेना सीख रहे हैं और उन पर प्रतिबन्ध की तलवार लटकने लगी है.दरअसल बिजनेस अखबार ‘इकानॉमिक्स टाइम्स’ के हिंदी संस्करण में पहले पृष्ठ पर पहली खबर के रूप में छपे एक समाचार के मुताबिक सरकार ब्लाग पर प्रतिबन्ध लगाने का प्रयास कर रही है.यह प्रतिबन्ध कुछ इस तरह का होगा कि आपके ब्लॉग के कंटेन्ट(विषय-वस्तु) पर आपकी मर्ज़ी नहीं चलेगी बल्कि सरकार यह तय करेगी कि आप क्या पोस्ट करें और क्या न करें.सरकार ने इसके लिए आईटी कानून में बदलाव जैसे कुछ कदम उठाये हैं. खबर के मुताबिक सरकारी विभाग सीधे ब्लॉग पर प्रतिबन्ध नहीं लगाएंगे बल्कि ब्लॉग बनाने और चलाने का अवसर देने वालों की नकेल कसी जायेगी. नए संशोधनों के बाद वेब- होस्टिंग सेवाएं उपलब्ध करने वालों,इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर और इसीतरह के अन्य मध्यस्थों को कानून के दायरे में लाया जा रहा है.प्रतिबंधों की यह सूची बीते माह जारी की गई थी और इसपर आम जनता,ब्लागरों और अन्य सम्बंधित पक्षों की राय मांगी गई थी."
             
 बिजनेस अखबार ‘इकानॉमिक्स टाइम्स’ के हिंदी संस्करण की यह खबर कितनी सही है इस पर सरकार की ओर पुष्टि ले लेना भी ज़रूरी है. अभी कुछ भी कयास लगाना ज़ल्दबाज़ी है पर इसका आशय यह नहीं कि हम सब कुछ भूल जाएं... हम ब्लागर्स को इसी आधार पर सरकार को रोज एक पोस्ट लिखकर , ब्लागर्स मीट के ज़रिये एवम प्रेस-विज्ञप्तियां जारी करके,अपने अपने शहर में जिला   कलैक्टरों को ज्ञापन सौंप कर अपना विरोध जता देना ज़रूरी है. 
                        यदि सरकार ऐसा करती है तो  सेवा-प्रदाता के ज़रिये नकेल कसी  जायेगी ब्लागर्स की.   तय यह पाया जाता है  क़ि सर्वसाधारण को बोलने की इजाज़त एवं  अभिव्यक्ति  के लिए   प्रयुक्त प्लेटफ़ार्म न मिले  . अब आप बताएं आम ब्लॉगर कोई विकीलीक्स तो   नहीं है जो क़ि उससे भयाक्रांत रहा जावे. सरकार के मानस में यह क्यों जबकि आम ब्लॉगर सिर्फ कविता कहानी आलेख जो अखबारों,पत्र-पत्रिकाओं में भेजते हैं उसे ब्लॉग पर प्रकाशित कर रहे हैं . फिर किसके  इशारों पर हो रही है यह हरकत  . सरकार को इस मामले में खुलासा करना चाहिये कि किन परिस्थियों में सरकार यह क़दम उठा रही है . मुझे वर्धा सम्मेलन की रिकमंडेशन याद आ रहीं हैं कि हिंदी ब्लागिंग के लिये एक आदर्श आचार संहिता होनी चाहिये . यह बात वास्तव में ग़ैर ज़रूरी थी. ऐसा विचार व्यक्त करने वाले तथा सरकार  यह जान ले कि क्या मौज़ूदा क़ानून से अश्लील,उत्तेज़क,गुमराह करने वाले अराजक आलेखों, प्रस्तुतियों को प्रतिबंधित आसानी से किया जा सकता है.   
ललित शर्मा
एक ओर हम ब्लागर्स हिंदी से नेट को ढंक देना चाहते हैं वहीं दूसरी ओर ऐसी खबर, जी हां यह खबर निश्चित ही  हमारे एक जुट होने के मार्ग तैयार कर रही है. समय आ गया है कि सारे ब्लागर्स एक जुट होकर पुरजोर विरोध करें. ... सरकार के ऐसे अलोकतांत्रिक-प्रयास का. इस हेतु हमें प्रिंट,इलैक्ट्रानिक मीडिया से सहयोग की अपेक्षा है.  


ललित शर्मा के अनुसार :-"मध्यवर्ती संस्थाओं के टर्म का दायरा ब्लॉगर तक बढाने के पीछे तर्क यह है कि जिस तरह इंटरनेट प्रोवाईडर संस्थाएं पाठक को  इंटरनेट से जोड़ती  हैं उसी तरह ब्लॉग पर लिखे गए लेख भी पाठकों को अपने तक जोड़ते हैं। ब्लॉग स्वामी किसी के खिलाफ़ व्यक्तिगत आरोप आक्षेप वाली पोस्ट लगाता है और पाठक जब ब्लॉग पर अपमानजनक, अमर्यादित टिप्पणी करता है तो उसका जिम्मेदार ब्लॉग स्वामी ही होगा। इसके लिए ब्लॉग स्वामी को मध्यवर्ती संस्था मान कर कानून के दायरे में लाया जा रहा है।
(पूरा आलेख इधर देखिये)






कनिष्क कश्यप 
इस पोस्ट के तैयार करते समय न्यू-मीडिया-एक्सपर्ट कनिष्क कश्यप से बात हुई उनका कहना है :-"खबर ग़लत है, क्या मछलियों को समन्दर में कूदने से  रोकने का का़नून बन तो सकते है पर मछलियों को रोका नहीं जा सकता "








दिल्ली के ब्लागर खुशदीप सहगल ने अपनी दो टूक राय ज़ाहिर करते हुये कहा कि:-"जी, सायबर क़ानूनों की मज़बूती के लिये एक बिल पेश हो रहा है जिसके प्रावधानों की परिधि में ब्लाग को लाया जावेगा. जो धर्मोंमादक, भड़काऊ ब्लाग पोस्ट तथा उस पर आने वाली टिप्पणियों प्रतिबंधित करने हेतु ज़िम्मेदारी तय की जावेगी."
         सहगल जी ने आगे बताया:-"धर्माधारित विषयों पर विवादस्पद  आलेखन करने वाले ब्लागर्स तथा अभद्र टिप्पणीयों की ज़िम्मेदारी ब्लाग संचालक की ही होगी. "
        खुशदीप जी की बात से अधिक स्पष्टता मिली कि " उत्तेज़क ब्लागिंग प्रतिबंधित करने की कोशिश की जा रही है..? "
      किंतु मौज़ूदा क़ानूनों में प्रावधानों की उपलब्धता है.इन सबको रोकने के लिये. इससे सदाचारी ब्लागर्स के लेखन पर असर होगा. इस बात का विरोध होना ही चाहिये. 
इस बात पर खुशदीप जी का मत है कि :-"अवश्य होना चाहिये, किंतु हम ब्लागर्स को भी वर्जित विषयों पर लेखन गाली-गलौच भरी टिप्पणीयों से बचना ज़रूरी है." 
         

गुरुवार, दिसंबर 2

ब्लागिंग पर राष्ट्रीय कार्यशाला आधिकारिक रपट

सलेट लिये चार : अर्थ निकालने की स्वतंत्रता सहित
 दिनांक 01/12/2010 को जबलपुर की होटल-सूर्या में "हिंदी ब्लागिंग विकास और सम्भावना" विषय पर केंद्रित
पंकज स्वामी गुलुश ने कार्यशाला के प्रारम्भ में विषय प्रतिपादन-अभिव्यक्ति में कहा :-
तेज़ी से विकसित हो रही ब्लागिंग के भविष्य को समृद्ध एवम सशक्त निरूपित करते हुए कहा कि ’नागरिक-पत्रकारिता के इस स्वरूप (ब्लागिंग) को’ पांचवे स्तम्भ का दर्ज़ा हासिल हो ही चुका है सबने ब्लागिंग की ताक़त को पहचाना है . महानगरों से लेकर कस्बाई क्षेत्रों तक हिंदी ब्लागिंग नेट की उपलब्धता पर निर्भर करती है. जिन जिन स्थानों पर नेट की उपलब्धता सहज रूप से सुलभ है वहां तक ब्लागिंग का विस्तार हो रहा है. विकास के इस दौर में हिन्दी में ब्लाग लेखन कई कई कारणों से ज़रूरी और आवश्यक है. बाधा हीन  स्वतंत्र-अभिव्यक्ति
संवाद की निरन्तर सीधी एवम सुलभ सुविधा 
पाडकास्टिंग,वेबकास्टिंग, के लिये नई सुविधाओं की उपलब्धता
अखबारों,समाचार-माध्यमों में नागरिक अभिव्यक्ति के लिये स्वतन्त्र स्थान का अभाव
 हिन्दी में अधिकाधिक पाठ्य सामग्री  की  नेट पर आवश्यक्ता 
अखबारों की मदद 
सूचनाऒ का सहज प्रवाह 
गुलुश जी ने अपने विचार रखते हुए यह भी कहा कि :- ब्लागर्स मासिक साप्ताहिक या पाक्षिक अथवा जैसी भी परिस्थियां हो आपस में मिलें अवश्य ताकि  आपसी चर्चा कर अपने ब्लाग/ब्लागिंग  के विकास  की युक्तियों को तलाश सकते हैं .  साथ ही ब्लागिंग के स्वस्थ्य स्वरूप को देखा जा सके. सनसनीखेज विषयॊं पर टिप्पणी करते हुये गुलुश जी की राय थी : लोग प्रवृत्ति से इन विषयों के प्रति आकर्षित होते  हैं . जो ब्लाग क्या अखबारों,चैनल्स,यूट्यूब, यानी सभी माध्यमों की ताक़त बन जाता है ऐसा माना जा रहा किंतु जो चीज़ अमर होनी होती है उसे स्वच्छ रखना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिये.   
साभार: झा जी कहिन

  संजय की दिव्यदृष्टि के बारे में हम सभी जानते हैं कि उन्होंने धृतराष्ट्र को घर बैठे महाभारत का आँखों देखा हाल सुनाया था. द्वापर के बाद हम कहें कि वर्तमान उससे भी आगे बढ़ चुका है तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी. आदिकाल से जिज्ञासु प्रवृत्ति वाला मानव कल्पनाओं को साकार करने शाश्वत क्रियाशील रहा है. किस्सागोई, लेखन, प्रिंटिंग, रिकार्डिंग और दृश्यांकन से प्रारम्भ होकर आज हम ऑनलाइन, अपने अधिकांश कार्यों का सम्पादन करने में सक्षम हैं. चार-पाँच दशक पूर्व कल्पना से परे अविष्कार आज अनपढ़, मजदूर और ग्रामीणों को भी सहज सुलभ होते जा रहे हैं. विकास और त्वरण की क्रांति आँधी-तूफ़ान से तेज चल रही है. सन्देश एवं साहित्य का आदान-प्रदान ध्वनियों, चित्रों और लिपियों से प्रारम्भ होकर आज अंतरजाल की दुनिया में अपनी पहचान बना चुका है. अंतरजाल तकनीकी अब तक ज्ञात सर्वाधिक विकसित सुविधा प्रणाली है. विश्व की विभिन्न भाषाओं के साथ ही इसका हिंदी में भी प्रचलन बढ़ा है. इस बहुआयामी अंतरजाल तकनीकी से हमारा साहित्य एवं पत्रकार जगत भला कैसे पीछे रहता. आवश्यकतानुसार शनैः शनैः अंतरजालीय उपकरणों एवं साफ्टवेयर्स के माध्यम से आज हम किसी से कम नहीं हैं. अंतरजाल की सहायता से शुरू हुई ब्लागिंग आज निश्चित रूप से संचार क्रांति की विशेष उपलब्धि है. साहित्य, संदेश, समाचार, वार्तालाप, जानकारियाँ, नवीन अविष्कार, त्वरित प्रसारण के साथ-साथ कांफ्रेंसिंग जैसी सुविधाएँ की-बोर्ड की चन्द बटनों के दबाते ही आपकी स्क्रीन पर उपलब्ध हो जाती हैं. आज इन्हीं सारी सुविधाओं से परिपूर्ण हमारे हिन्दी ब्लॉगर्स त्वरित गति से विश्व में अपनी पहचान कायम कर चुके हैं. आज विश्व का अधिकांश जनसमुदाय भले ही अंतरजालीय सुविधा से वंचित हो परन्तु ब्लॉग्स, ई-मेल और नेट बैंकिंग जैसी सुविधाओं की जानकारी रखता है. आज विश्व में ब्लॉग्स और उनके पाठकों की बढ़ती संख्या इस विधा की सफलता के प्रमाण हैं. दो दशक पहले और आज के परिवेश में आमूल चूल बदलाव आ चुका है. आज देश, प्रदेश, शहर और कस्बाई स्तर पर भी ब्लागिंग के चर्चे होने लगे हैं. ब्लागर्स की बढ़ती संख्या और उसकी लोकप्रियता आज किसी से छिपी नहीं है. ब्लाग के जन्म और उसकी विकास यात्रा जो हम देख रहे हैं ये मात्र पड़ाव हैं, मंजिल नहीं. मंजिल तो हमारे द्वारा तैयार किए जा रहे आधार और तय की गई दूरी के बाद ही मिलेगी. आज हम जिस मंजिल की कल्पना कर रहे हैं वह तभी प्राप्त होगी जब हमारा आधार मजबूत होगा. यहाँ पर इसी आधार को मजबूत बनाने के लिये ब्लागिंग कार्य शाला का आयोजन किया गया है. ब्लागर्स जानते हैं कि इलाहाबाद, छत्तीसगढ़, वर्धा और दिल्ली में ' ब्लॉगर्स संगठन एवं इसके प्रचार-प्रसार हेतु आयोजित ब्लागर्स मीट '  भी इसी दिशा में उठाए आधारभूत कदम हैं. आज जब संस्कारधानी जबलपुर में ब्लागिंग पर चर्चा हो रही है तब ब्लागिंग के स्वरूप, प्रस्तुति, मर्यादा और आचार-संहिता पर भी चिन्तन और वार्तालाप जरूरी है.
                आज मैं चन्द छोटे-छोटे किन्तु महत्वपूर्ण बिन्दुओं की ओर आप सभी का ध्यान आकृष्ट कराना चाहता हूँ , जिन पर अमल कर हम सकारात्मक एवं आदर्श ब्लागिंग की दिशा में अग्रसर हो सकते हैं:-

1. आज अनेक ब्लागर बन्धुओं ने ब्लागिंग को चौराहे की चर्चातक सीमित कर रखा है जबकि ये व्यक्तित्व, कृतित्व एवं सामाजिक सरोकारों की अभिव्यक्ति का विशाल मंच तथा हमारे सर्वांगीण विकास का माध्यम बन सकता है.
2. छोटी-छोटी अनुपयुक्त एवं खालिस व्यक्तिगत बातें, स्वार्थपरक वक्तव्य, वैमनस्यतापूर्ण आलेख तथा टिप्पणियों से बचने के साथ ही इन्हें बहिष्कृत भी करना होगा.
3. वाह-वाह, बहुत खूब एवं अतिसुन्दर जैसी गिव्ह एण्ड टेकवाली टिप्पणियों से परहेज करना होगा तथा दूसरों की पोस्ट पर यथासम्भव पढ़कर ही अपना अभिमत देने की मानसिकता पर बल देना होगा.

4. ब्लाग्स की वरिष्ठता के मानदण्ड छद्म पाठक नहीं पोस्ट की साहित्यिक गुणवत्ता और उपयोगिता को बनाना होगा. इससे एक ओर टिप्पणियों के बेतुके आदान-प्रदान के सिलसिले पर अंकुश लगेगा वहीं दूसरी ओर सकारात्मक लेखन को और प्रोत्साहन मिलेगा.
5. हमें अपनी ब्लागर मित्रमंडली के घेरे से बाहर निकलना होगा.
6. नव आगन्तुकों को स्नेह-आशीष के साथ ही उनके हितार्थ परामर्श की कड़ीबनाना होगी ताकि भावी ब्लागिंग में आशानुरूप परिष्करण प्रक्रिया को दिशा मिल सके.
7. ब्लागिंग में उपयोगी जानकारी एवं सुविधाओं के प्रचार-प्रसार के लिए भी लगातार ज्ञानवर्धक एवं उपयोगी पोस्ट प्रकाशित होते रहना चाहिए.
8. बदलते परिवेश में ब्लागिंग की महत्ता देखते हुए व्यक्तिगत एवं सहकारी तौर पर ज्ञानपरक पुस्तकें प्रकाशित होना चाहिए.
9. ब्लागिंग की उपयोगिता को शासकीय एवं अशासकीय शिक्षण संस्थाओं के पाठ्यक्रमों में भी शामिल किया जाना चाहिए ताकि ब्लाग्स में निहित विभिन्न विषयों  की नई-पुरानी जानकारी विद्यार्थी-शोधार्थी आसानी से प्राप्त कर सकें. साथ ही इसकी उपयोगिता एवं प्रचार-प्रसार के लिए शासन के साथ विधिवत पत्राचार किया जाना चाहिए.
10. अन्तिम बिन्दु पर विशेष ध्यान दिलाना चाहूँगा   कि अब ब्लागिंग हेतु सर्वमान्य आचार संहिता का होना बहुत आवश्यक हो गया है. इसके क्रियान्वयन के पश्चात ब्लागिंग आचार संहिता का उल्लंघन करने वाले ब्लॉगर्स पर अंकुश और प्रतिबन्ध लगाना भी सम्भव हो सकेगा.
 ११. हिन्दी ब्लागिंग  को उत्पादन एवं आय से जोड़ने के उपायों पर विस्तार से चर्चा होनी चाहिए.  
             इस तरह मुझे उम्मीद है कि हमारे विद्वान साथी मेरी उपरोक्त बातों पर अवश्य ध्यान देंगे. आज इस ब्लागिंग कार्य शाला के परिणाम ब्लॉगर्स को नई दिशा देने में अहम भूमिका का निर्वहन करेंगे, ऐसी मेरी कामना है.
जय हिन्दी - जय ब्लागर्स
महेंद्र मिश्रा जी का आलेख पृष्ठ 01
महेंद्र मिश्रा जी का आलेख पृष्ठ 02
जबलपुर में हिंदी  ब्लागिंग को बढ़ावा देने में समीर लाल के अवदान की चर्चा करते हुए कहा कि हिंदी चिट्ठाकारिता समाज की धुरी साबित होगी . समय चक्र के लेखक श्री महेंद्र मिश्र ने जो कहा उस अभिव्यक्ति को दाएं एवम बाऎं पन्नों पर क्लिक कर विस्तार से देखा जा सकता है.


नाव चल निकली डूबे जी की नाव




समीर लाल उवाच :-


ब्लॉगिंग अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देती है. न कोई संपादक, न मालिकों का दबाव एवं नितियाँ-सब आप पर निर्भर करता है. आप अपने विचारों से, अपने लेखन से, अपने भावों से मात्र एक बटन क्लिक करके संपूर्ण विश्व भर में फैले अपने पाठकों को स्पर्श कर सकते हैं और मजे की बात यह, उनसे टिप्पणियों के माध्यम से त्वरित विमर्श कर सकते हैं, उनके विचार जान सकते हैं, उनकी प्रतिक्रियायें प्राप्त कर सकते हैं. ऐसा अन्य किसी भी माध्यम से पहले संभव न था.
ऐसे में जहाँ यह माध्यम आपको इतनी सुलभता, इतनी स्वतंत्रता देता है, तब यह आपकी नैतिक जिम्मेदारी हो जाती है कि आप स्वविवेक, आत्म नियंत्रण, अनुशासन और संयम का पालन करें. इस स्वतंत्रता और संसाधन का दुरुपयोग न करें.
हर स्वतंत्रता के साथ स्वतः ही आपसे एक आशा रहती है और यह आपका दायित्व भी रहता है कि आप उस स्वतंत्रता का जिम्मेदारीपूर्वक सदुपयोग करेंगे. यह ठीक वैसा ही है कि जब बच्चा बड़ा हो जाता है तो माँ बाप उसे अकेले मोटर साईकिल लेकर ट्यूशन, बाजार और दोस्तों के बीच में जाने देते हैं. वो जानते हैं और उन्हें इस बात का विश्वास रहता है कि अब वह बच्चा बड़ा हो गया है, जिम्मेदार हो गया है एवं कोई ऐसी हरकत नहीं करेगा जो गैर कानूनी हो, समाज के लिए घातक हो और किसी अन्य को नुकसान पहुँचाये. 
लेखन के साथ एक सतत जागरुकता रहना चाहिये कि आप जो भी नेट पर लिख रहे हैं वह एक इतिहास दर्ज कर रहे हैं. वह हमेशा समूचे विश्व के लिए उपलब्ध रहेगा. कल वही सब आपके परिचित, परिवार, बच्चे पढ़ेंगे. ध्यान रहे कि अपने लिखे से आपको उम्र के किसी भी पड़ाव में, किसी भी परिस्थिति में अपमानित या शर्मसार या अपनी ही करनी पर पछतावा/ शर्मिंदा न होने पड़े...
कुछ अलिखित नियम होते हैं और समाजिक जीवन का एक अनुशासन होता है जो बच्चा परिवारिक एवं अपने आसपास के माहौल और बुजुर्गों एवं साथियों के व्यवहार से सीखता है अतः सभी वरिष्ठों का यह नैतिक दायित्व है कि वो ऐसा माहौल, व्यवहार और मानक स्थापित करें जो एक सुदृढ़ समाज का निर्माण करें, न कि आचार संहिता बनाने में अपनी उर्जा लगायें. इन जिम्मेदारियों और दायित्वों के परिपालन के लिए किसी लिखित आचार संहिता की  ही नहीं है. इसका मानसिक और व्यवाहरिक बीजारोपण तो स्थापित माहौल स्वयं स्वतः कर देगा.
फिर भी कुछ अपवाद बच रह जाते हैं, कुछ असामाजिक तत्व पनप ही जाते हैं, कुछ गंदी मानसिकता वाले गंदगी फैलाने चले ही आते हैं. यह हमारे समाज में हमेशा से होता आया है. बस, एक जिम्मेदार नागरिक का फर्ज होता है कि इनसे दूर रहे, इनसे बच कर चले. इनके कारण हम समाज को तो नहीं छोड़ देते और न ही हम अपना व्यवहार बदल लेते हैं. फिर उसी समाज और जगत का विस्तार तो यह आभासी जगत ब्लॉगिंग का है, यह कैसे उन बातों से अछूता रह सकता है और उससे इतर यहाँ के नियम कैसे हो सकते हैं. यहाँ भी वही फलसफा लागू होता है कि आप अपने दायित्वों का निर्वहन जिम्मेदारीपूर्वक किजिये. इन तत्वों की वजह से न तो आपको विचलित होने की आवश्यक्ता है और न ही अपने आप को बदलने की. 
उत्साहवर्धन, प्रोत्साहन, छिद्रान्वेषण, त्रुटिसुधार, फटकार एवं नजर अंदाज करना- सभी का अपना महत्व है.
टिप्पणियाँ जहाँ एक ओर जीवन उर्जा हैं, बंद होते हताश ब्लॉगर के लिए संजीवनी हैं वहीं लेखक को इस बात का अहसास कराती हैं कि समाज की उन पर नजर है..,..वो मात्र दीवाल या शीशे के सामने खड़े कुछ भी अनर्गल प्रलाप नहीं कर रहे हैं वरन उन्हें संयम का पालन करना है.
-ब्लॉगर्स की संख्या बढ़ाने की मुहिम चलायें-हर माह हर ब्लॉगर एक नया चिट्ठाकार बनाये-गुणित आधार पर संख्या में बहुत तेजी से वृद्धि होगी. आप बस अपना कार्य करिये-सब अपने अपने हिस्से के पालन करें तो एक ऐसे समाज का निर्माण स्वतः हो जायेगा जिसकी हम परिकल्पना करते हैं.
-नई जानकारियाँ, तकनीक आपस में बाँटें. ज्ञान बांटने से बढ़ता है. नई जानकारियाँ पाकर अन्य लोगों में भी इस ओर रुझान बढ़ता है और उत्साहवर्धन होता है.
-प्रतिस्पर्धा बेहतर लेखन की हो, न कि सिर्फ़ रेंकिंग की, टिप्पणियों की संख्या की, फॉलोअर्स बढ़ाने की-यह सब बेहतर लेखन और बेहतर व्यवहार से स्वतः हो जायेगा. इसके लिए आप को कुछ नहीं करना है, यह फल है-आपका काम वृक्ष लगाना है, उसकी देखभाल करना है. उसे कीटों से, गन्दगी से बचाना है. स्वादिष्ट फल स्वमेव आ जायेंगे. बबूल बोकर आम की प्रतिक्षा करना मात्र बेवकूफी है- फिर भी कितने ही हैं जो यह बेवकूफी किये जा रहे हैं और फिर तरह तरह का रोना रोते हैं कि रेकिंग में बदमाशी चल रही है, मठाधीशों के इशारे पर कार्य हो रहे हैं, गुट बने हैं, टिप्पणियाँ नहीं मिलती आदि आदि.
अंत में, एक बात और जोड़ना चाहता हूँ कि हमें हिन्दी ब्लॉगिंग को -विश्वविद्यालयीन पाठयक्रम (मीडिया एवं पत्रकारिता कोर्स) का हिस्सा बनवाने का प्रयास करना होगा. इसे उन छात्रों के प्रोजेक्ट के रुप में लिया जा सकता है. इससे न सिर्फ उन्हें इस तेजी से उभरते पाँचवें खम्भे से जुड़ने का अवसर मिलेगा वरन हिन्दी ब्लॉगिंग एक विशिष्ट प्रसार प्राप्त करेगी जो इसे समृद्धि प्रदान करेगा.
एक उन्माद
उम्र के उस पड़ाव मे
उगा लिया था
हथेली पर
एक कैक्टस
अब
उखाड़ देना चाहता हूँ
मगर
कांटे डराते हैं मुझे!!
तो अंत में यही निवेदन कि उगाना ही है तो सुन्दर फल, फूल उगाईये, ताकि वर्तमान में और भविष्य में उसकी सुगंध और स्वाद ले सकें वरना कांटे बोयेंगे तो वह तकलीफ देंगे ही.       
______________________________________________________
 समारोह के विशिष्ठ-अतिथि श्री जी.के अवधिया ने कहा :-’नेट पर हिन्दी की उपस्थिति में सबसे महत्वपूर्ण योगदान हिंदी ब्लागर्स का है. 28 हज़ार हिन्दी ब्लागर्स अथक प्रयास से हिंदी को नेट पर ला ही दिया किंतु अभी भी हम पीछे हैं अन्य भाषाओं  अंग्रेज़ी,चायनीज़ से पीछे हैं इसकी चिंता भारत सरकार को हो न हो गूगल को अवश्य है क्योंकि उसको व्यावसायिक फ़ायदे हैं किंतु गूगल और माइक्रसाफ़्ट जैसी कम्पनियां हिन्दी के डाटा-बेस के मामले में आत्मनिर्भर नहीं हैं. जैसे ही यह सम्भव होगा ब्लाग्स को विज्ञापन मिलना तय है. हिंदी ब्लॉग में विदेशी मुद्रा अर्जक होते ही हिंदी-ब्लागिंग का स्वरुप कुछ  और ही होगा. पर हमारा दुर्भाग्य ये है कि हम देवनागरी  के बावन-अक्षरों को क्रमश: याद नहीं पाते हैं.डाक्टर विजय तिवारी की राय को गति देते हुए अवधिया जी ने सुझाव दिया कि विज्ञापन कम्पनियां विषय आधारित वेब साइट्स का चुनाव करतीं हैं विज्ञापन के लिए . अत: सदा विषय विशेष पर केंद्रित ब्लाग्स लिखे जाएं ताकि एडसेन्स(गूगल),अन्य विज्ञापन कम्पनियों को आप तक पहुंचने में कठिनाई न हो.   
ललित शर्मा का मानना था :- नकारात्मकता और ग्रुप बाज़ी से हटकर  खुले दिल से हिंदी के अंतरजाल पर समग्र विस्तार के प्रयास आवश्यक हैं. आभासी होते हुए भी वास्तविक संबंध स्थापित कर देने वाली हिंदी-चिट्ठाकारिता में अपार सम्भावनाएं हैं विश्व से जोड़  ने वाली  महत्वपूर्ण-आलेखों (पोस्टस) पर अध्ययन के बाद टिप्पणीयों को दर्ज करने से  पोस्ट की मूल भावनाएं आसानी से उजागर होती है. टिप्पणी का प्रयोग पोस्ट के रुख को बदलने के नहीं किया जाना चाहिए ताकि वातावरण की भी सहज रह सके. हिंदी ब्लागिंग में आचार-संहिता के बिंदू पर असहमत नज़र आए ललित शर्मा ने कहा :- हिंदी ब्लागिंग का स्वरुप परिवार की तरह आत्मीय हो गया है . तो  परिवार के लिए भी  कानूनी धाराओं की  ज़रुरत क्यों आन पडी . एक धारा और बढ़ जायेगी तो क्या होगा उससे. ज़रूरत स्वायत्त अनुशासन की है न कि इन सब की जिसे आचार संहिता कहा जा रहा है. 
ललित शर्मा ने कहा कि :-अवधिया जी का सुझाव चिंतन योग्य है. विषय आधरित ब्लागिंग होनी चाहिये. ब्लागिंग में निरंतरता , स्वच्छता एवम शुचिता के लिये ही स्थान होता है. अत: राग-द्वेष  कारक सनसनीखेज़ आलेखों से बचा जावे. बेनामीयों को चाहिये कि खुल के साफ़ साफ़ एतराज़ दर्ज़ कर दें ब्लाग पर अश्लीलता तक न पहुंचें.  जिसे खुल कर कहने की हिम्मत न हो वो उसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार के  प्रयोग का ज्ञान ही नहीं है ऐसे लोगों के लिए ब्लागिंग अनुकूल स्थान नहीं. 
विवेकशील मनुष्य प्रजाती की रचनात्मक अभिव्यक्ति का स्वरुप बन चुका है ब्लॉग तो विध्वंसात्मक प्रवृत्तियों को  ध्यान में रख कर पोस्ट प्रति पोस्ट लिखना गैर ज़रूरी है.  ब्लागर्स के बीच अनबन कलह फ़ैलाना सामाजिक रूप से गंदगी फ़ैलाना है. इसके लिये कानूनी प्रावधान हैं. जिनका प्रयोग किया जा सकता है. 
बवाल उवाच :- बवाल जी ने ब्लाग की शक्ति को अमोघ शक्ति निरूपित करते हुए कहा कि हम सबकी बात का प्रभाव उस बात के सरल प्रवाह पर नियत है . अतएव सुखद परिणाम के लिये सतत प्रभावशाली अभिव्यक्ति दर्ज़ होती रहे. नित नये टूल्स का अनुप्रयोग हो. अभी आह ही में bambuser पर गिरीष जी का प्रयोग अनूठा रहा है.जिसका प्रयोग आज किया जाना था ताकि कार्यशाला का लाईव प्रसारण हो सके किंतु इस टूल का  अनुप्रयोग आज़ हाई-स्पीड डाटा कार्ड के अभाव के कारण सम्भव न हो सका. ्वरना आज़ की मीटिंग का लाइ प्रसारण भी  इतिहास में दर्ज़ होता. 
प्रेम-फ़रुक्खाबादी :- हिन्दी ब्लागिंग को आचार संहिता की नहीं सदाचरण वाले आलखों की ज़रूरत है. 
आनंदकृष्ण:- आनंद कृष्ण ने सीधे सपाट शब्दों में कहा आचरण पर हमारा हक़ और नियंत्रण दौनों है यदि हमारे आचरण सही होंगे तो सब कुछ ठीक होना तय है.आचार संहिता जैसी बातों की कोई आवश्यकता नहीं  जहां तक ब्लाग स्पोट या वर्ड-प्रेस  का सवाल है वो हमारे नियंत्रण में नहीं है तो अनावश्यक है यह बहस आवश्यक है  हमारी आचरण गत शुद्धि की. 
विवेकरंजन श्रीवास्तव:- अभियंता विवेक जी की राय थी कि पांचवां स्तम्भ मज़बूती की ओर विकल्प के रूप में उभरता दिखाई दे रहा है. उसमें अनावश्यक रूप से  लगाम कसने की ज़रूरत से ज़्यादा ज़रूरत है कि नये ब्लागर्स को यह बताया जावे कि ब्लागिंग में नित नये टूलस का अनुप्रयोग कैसे किया जावे, किस तरह से अन्तरजाल पर हिंदी के अधिकाधिक प्रयोग को बढ़ावा मिले. कुल मिला कर प्राथमिक पाठ्यक्रम का होना ज़रूरी है. अतएव ब्लागर्स निरंतर ब्लागिंग के लिये विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करें. उनकी सहायता करें ताकि हिंदी के कंटैंट्स को नेट पर बढाया जा सके. सामाजिक वैचारिक महत्व के विषयों की नेट पर उपलब्धता के पयास होने चाहियें. क्योंकि हिंदी ब्लागिंग में अपार संभावनाएं हैं. 
अरुण निगम:- जबलपुर में हाल ही में रायपुर से पधारे ब्लागर श्री अरुण निगम ने कहा कि नया नया ब्लागर भी हूं अत: मुझे निरंतर सहयोग की ज़रूरत है. उम्मीद है कि जबलपुर के  मित्र मुझे और अधिक सुदृढ़ता पाने में सहयोग करेंगे. 
       गैर ब्लागर प्रख्यात साहित्य संयोजक राजेश पाठक "प्रवीण" ने ब्लाग की सार्थकता के उदाहरण प्रस्तुत किये जबकि सलिल समाधिया ने अपना अनाम ब्लाग शीघ्र बनाने के वादे के साथ कहा :- सवाल ही पैदा नही होता कि पांचवे स्तम्भ की शक्ति को नकारा जाए. 
      जबकि मनीष शर्मा का मत था की ब्लागिंग की अधिकाधिक ओरल पब्लिसिटी हो ताकि लोग (हम जैसे  गैर ब्लागर) दैनिक अखबारों की तरह पोस्ट का इन्तज़ार करें.जिस दिन  हरेक चिट्ठे का पाठक गैर ब्लागर पाठक  होगा  वह दिन हिन्दी ब्लागिंग का टर्निंग पाईण्ट होगा. 
   संजू तिवारी के मतनुसार :- अखबारों से पहले एक क्लिक में अपने पाठक तक पहुंचने वाले ब्लाग में अभूतपूर्व शक्तियां हैं हर ब्लागर को  आलेखों को सहजता से लिखना चाहिये. बिना पूर्वाग्रही हुए दूसरों से संवाद करना चाहिये 
ऐसे डूबे डुबे जी


जे अपने राम भैया !!
  संगीतकार सुयोग पाठक संगीत आधारित ब्लाग बनाने के लिये संकल्पित हुए जो कार्यशाला की उपलब्धि थी. 
प्रत्येक ब्लागर को कार्टूनिष्ट ब्लागर डूबे जी ने कार्यशाला के दौरान बनाए कार्टून्स देकर प्रभावित किया.जिसे  अनिवार्यत: अपने अपने ब्लाग पर लगाने का प्रस्ताव बहुमत से पारित हुआ  सो बाएं बाजू देखिये
___________________
 कार्यशाला के अंत में दिवंगत ब्लागर  श्री महावीर शर्मा, खुशदीप जी के पिता श्री एवम श्री पाबला जी की मातुश्री के देहावसान पर मौन होकर श्रद्धांजलि अर्पित की. 
_________________________
-     कार्यशाला का संचालन गिरीश बिल्लोरे द्वारा आभार प्रदर्शन बवाल द्वारा किया गया. 
मेरी कारगुजारियां अगली पोस्ट में  


Kindle Wireless Reading Device, Wi-Fi, 6" Display - with New E Ink (Pearl) Technology खबरें इधर भी:-
The Blind Sideपत्रिका जबलपुर एवम पीपुल्स समाचार
विशेष-अनुरोध:- 
इस रपट में किसी भी प्रतिभागी वक्ता के किसी बहुमूल्य विचार का जिक्र न हुआ हो तो कृपया सूचित कीजिये मानवीय भूल को मित्रगण क्षमा करेंगें मुझे उम्मीद है यथा सम्भव पूरे मनोयोग एवम स्मृति के आधार पर क्रोसिन खाकर बुखार से अवकाश लेकर लिखा है. हो सकता है अत: कुछ भूल अवश्य हुई ही होगी . कृपया मुझे इस मेल पते girishbillore@gmail.com पर सहयोगी ब्लागर्स  अवगत करावें. ताकि अगली पोस्ट में विवरण  लगा सकूं. सादर आपका ही गिरीश बिल्लोरे मुकुल  
__________________________________
         आधिकारिक रपट के बाद : -  
 श्री समीर लाल की पोस्ट:      इनसे मिले, उनसे मिले: देखें किनसे मिले
श्री महेंद्र मिश्र जी की पोस्ट :-यार बबाल जी दाल बाटी खाने का तरीका क्या है ?
श्री विजय तिवारी जी             :- सकारात्मक एवं आदर्श ब्लागिंग की दिशा में अग्रसर होना ब्लागर्स का दायित्त्व है : जबलपुर ब्लागिंग कार्यशाला पर विशेष
श्री विजय कुमा सप्पती की पोस्ट :- जबलपुर, ब्लागर सम्मेलन:स्नेह भरा अनुभव 
श्री ललित शर्मा जी की पोस्ट      :-  पनघट की पनिहारिन, फ़ाड़ू शायर, रुम नम्बर 120 और गक्कड़ भर्ता -----
__________________________________