शुक्रवार, अप्रैल 27

वीर तो शर शैया पर आराम की तलब रखतें हैं


बेहद कुण्ठित लोगों के का जमवाड़ा सा नज़र आता है हमारे इर्द-गिर्द हमको.  
हम लोग अकारण आक्रामक होते जा रहे हैं. वास्तव में हमारी धारण शक्ति का क्षय सतत जारी है. उसके मूल में केवल हमारी आत्म-केंद्रित सोच के अलावा और कुछ नहीं है. इस सोच को बदलना चाहें तो भी हम नहीं बदल सकते क्यों कि जो भी हमारे पास है उससे हम असंतुष्ट हैं.एक बात और है कि  हमारी आक्रामकता में बहादुर होने का गुण दिखाई नहीं देता अक्सर हम पीछे से वार करतें हैं या छिप के वार करते हैं.यानी युद्ध के आदर्श स्वरूप हटकर हम छ्द्म रूप से युद्ध में बने रहते हैं. यानी हम सिर्फ़ पीठ पे वार करने को युद्ध मानते हैं. हां रण-कौशल में में "अश्वत्थामा-हतो हत:" की स्थिति कभी कभार ही आनी चाहिये पर हम हैं कि अक्सर "अश्वत्थामा-हतो हत:" का उदघोष करते हैं. वीर ऐसा करते हैं क्या ? न शायद नहीं न कभी भी नहीं. वीर तो शर शैया पर आराम की तलब रखतें हैं .पता नहीं दुनियां में ये क्या चल रहा है..ये क्यों चल रहा है..?  कहीं इस युग की यही नियति तो नहीं..शायद हां ऐसा ही चलेगा लोग युद्ध रत रहेंगे अंतिम क्षण तक पर चोरी छिपे..! क्यों कि वे खुद से युद्ध कर पाने में अक्षम हैं अच्छे-बुरे का निर्णय वे अपने स्वार्थ एवम हित के साधने के आधार पर करते हैं तभी तो कुण्ठा-जन्य युद्ध मुसलसल जारी है..जहां वीर योद्धाओं का अभाव है.  




तीर बरछी और भालों पर बहुत आराम मिलता..
पंखुरी पे चलने वालों को कहां है नाम मिलता.?
मैं खबर हूं छाप दो अंज़ाम देखा जाएगा- 
मैं न होता तो बता क्या तुझको कोई काम मिलता ?
भेड़-बक़रे पाल के वो भीड़ का सरताज़ है -
ये अलग है कि उसे बस भीड़ में कुहराम मिलता.
बेवज़ह  सियासत के तीर-बरछे  छोड़ना-
वार तेरा तिनके सा- गिरके फ़िर बेकाम मिलता .
समझदारों को मुकुल अब और क्या समझाएगा-
उसे वो करने दे जिसे जो करने में आराम मिलता .









   

1 टिप्पणी:

raju ने कहा…

गिरीशजी,
अच्छा लिखते है -लिखते रहिएगा.....