सोमवार, फ़रवरी 27

तो फ़िर द हिंदु को ही माफ़ी मांगना चाहिये लक्ष्मी शरद के विवादित आलेख पर

Return to frontpage
"The-Hindu" में प्रकाशित एक आलेख का सिंहावलोकन ब्लाग पर ज़िक्र करते हुए जब श्री राहुल सिंह जनता का ध्यान आकृष्ट कराया किंतु न तो अनुशासन हीन लेखिका ने किसी भी प्रकार से अनुशासन हीनता के लिये क्षमा चाही और न ही अखबार ने कुछ कहा. अपितु महिला आयोग द्वारा मामले को दुर्भाग्य-पूर्ण बताया वहीं ब्लागर एक जुट नज़र आ रहे हैं. रश्मि  रविजा ,संतोष त्रिवेदी, भारतीय नागरिक - Indian Citizen,विष्णु बैरागी,संजय @ मो सम कौन , डॉ॰ मोनिका शर्मा,सुनीता  शर्मा ,अभिषेक मिश्र ,खुशदीप  सहगल ,प्रवीण पाण्डेय,डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ,अली ,लोकेन्द्र  सिंह  राजपूत,यशवन्त माथुर  ,वीरुभई ,संगीता स्वरुप ( गीत ) ,अनूप शुक्ल,संजय  मिश्र  'हबीब ' ,राजेश उत्‍साही,आशा जोगळेकर,उड़न  तश्तरी,ज्ञान्दुत्त  पाण्डेयईश्वर  खान्देलियामहेंद्र  वर्मा ,केवल राम संजीत  त्रिपाठी,जी.के. अवधिया ,वरुण कुमार सखाजी,रमाकांत  सिंह,देवेन्द्र पाण्डेय ,अरविन्द  मिश्र,सतीश सक्सेना,अविनाश  चन्द्र ,कौशलेन्द्र,शिखा  वार्ष्णेय,प्रतिभा सक्सेना,अतुल  श्रीवास्तव,ललित शर्मा,हेमन्‍त वैष्‍णव,सतीश पंचम,विवेकराज सिंह,ललित  कुमार,अभिषेक मिश्र,सुज्ञ,पी .एन . सुब्रमनियन,काजल कुमार Kajal Kumar ,देवेन्द्र  दत्त  मिश्रसंतोष त्रिवेदी,किशोर   दिवसे , सरिता  ठाकोरे ,अरुणेश सी  दवे,श्रद्धा,विवेक  रस्तोगी ,राकेश  तिवारी,pkmgkp अभिषेक  ओझा,शाहनवाज़,नीरज रोहिल्ला, सहित सारा ब्लॉग-जगत, एक जुट नज़र आ रहा है,  
      सभी ब्लागर इस बात को लेकर छुब्ध हैं कि -"सस्ती लोकप्रियता की लोलुप लेखिका" के मानस में कोई हलचल क्यों नहीं हो रही..? उफ़्फ़ ये बेगैरत अंदाज़. मेरा मानना है कि  आप केवल इस मसले को अगर यहीं एकाध पोस्ट तक सीमित रखेगें तो तय है ऐसी घटनाओं की पुनर्रावृत्ति अवश्यम्भावी है. हम ब्लॉगर अपमे दायित्व को बेखौफ निबाहें..खूब भर्तस्ना करें  ऐसे कुत्सिस प्रयासों की जो सामूहिक रूप से  लैंगिक आधार पर किसी का भी अपमान करते नज़र आयें.
      बहारहाल अभी आप इस देवी को इ मेल भेज कर अपना सन्देश दे सकतें हैं. lakshmi.sharath@gmail.com              

4 टिप्‍पणियां:

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

राम राम, हम बाहर हैं क्या इस ब्लॉगीय एकजुटता से ?

गिरीश"मुकुल" ने कहा…

आलेख ध्यान से बांचिये

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

यह तौहीनी महिलाओं की बिल्कुल बर्दाश्त नहीं होनी चाहिये..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!